Sunday, June 20, 2010

सीआयडी पीजे

सोनी टी.व्ही. वर गेले कैक वर्षे चालू असलेली ’सीआयडी’ ही धमाल विनोदी (??) मालिका अनेक होतकरू, उत्साही ’पीजे’कर्‍यांना खाद्य पुरवित असते. एकसे एक धमाल (की ’चिडचिड’?) अश्या या पीजे शेरांचा संग्रह. काही मेल मधून आलेले तर काही एसेमेसद्वारे.. आमची प्रतिभाही मग काही स्वस्थ बसवेना... या वाहत्या गंगेत मीही हात धुवून घेतलेत. लाल रंगात केलेले शेर म्हणजे माझं स्वतःचं creation !!!!!
*******************************************************************
रिन का भाव टाईड से कम है,
रिन का भाव टाईड से कम है,

Oh, My God, अभिजीत गाडीमे तो बम है
*******************************************************************
Good Morning के बाद Good afternoon हुवा है,
Good Morning के बाद Good afternoon हुवा है,

दया ये साधारण मौत नही, खून हुवा है
*******************************************************************
पानी को फ्रीजर मे रखनेसे बनती है बरफ,
पानी को फ्रीजर मे रखनेसे बनती है बरफ,

दया तुम इस तरफ और अभिजीत तुम उस तरफ
*******************************************************************
सावन आया तो हर फुल खिलेगा,
सावन आया तो हर फुल खिलेगा,

ACP प्रद्युम्न केहते है, कोई अपनी जगहसे नही हिलेगा
*******************************************************************
दोपहर का वक्त है, बिल्ली छतपे सोई है,
दोपहर का वक्त है, बिल्ली छतपे सोई है,

दया हो ना हो, खुनी इनमेसे ही कोई है
*******************************************************************
श्याम का सूरज ढल चुका है,
श्याम का सूरज ढल चुका है,

सर ये तो पेहले से मर चुका है
*******************************************************************
मेरे घर के सामने भेल का स्टॉल है,
मेरे घर के सामने भेल का स्टॉल है,

दया इसमे कातील की जरूर कोई चाल है
*******************************************************************
हिमेश गाता है घटीया गीत,
हिमेश गाता है घटीया गीत,

ACP प्रद्युम्न बोला, पकडो उसे अभिजीत
*******************************************************************
ठंडी ठंडी हवा और बादल छाये हे ऐसे,
ठंडी ठंडी हवा और बादल छाये हे ऐसे,

डॉ. सालुंके साफ साफ बताओ, ये मरा तो मरा कैसे
*******************************************************************
एक तरफ भगवान है, एक तरफ जगकी माया,
एक तरफ भगवान है, एक तरफ जगकी माया,

दया पता लगाओ, ये कातील अंदर कहांसे आया
*******************************************************************
फुल खिल गये, बहारोंकी घटा छा गयी,
फुल खिल गये, बहारोंकी घटा छा गयी,

डॉ. सालुंके क्या पोस्टमार्टेम की रीपोर्ट आ गयी?
*******************************************************************
गम-ए-जिंदगी ने हर दम आसू दिये है,
गम-ए-जिंदगी ने हर दम आसू दिये है,

सर लगता है दोनो खून एकही आदमी ने किये है
*******************************************************************
देखो कितना प्यारा खरगोश है,
देखो कितना प्यारा खरगोश है,

दया, इन्हे छोड दो, ये सारे निर्दोश है
*******************************************************************
चारो ओर सारेगमकी धूम है,
चारो ओर सारेगमकी धूम है,

दया ये आत्महत्या नही, खून है
*******************************************************************
ठंडे ठंडे पानीसे नहाना चाहिए,
ठंडे ठंडे पानीसे नहाना चाहिए,

दया हमे उस जगहपे जाना चाहिए
*******************************************************************
१९४७ से भारत-पाकिस्तान बटा हुआ है,
१९४७ से भारत-पाकिस्तान बटा हुआ है,

दया इस लाश का एक हाथ तो कटा हुआ है
*******************************************************************
रंगीन श्याम मे सूरज का साया,
रंगीन श्याम मे सूरज का साया,

ACP प्रद्युम्न says, पता करो कातील अंदर कहांसे आया
*******************************************************************
ईट का जवाब पत्थर से ना दो,
ईट का जवाब पत्थर से ना दो,

दया दरवाजा खुल नही रहा है, तोड दो
*******************************************************************
ना मिले दिल तो शादी के बाद तलाक है,
ना मिले दिल तो शादी के बाद तलाक है,

ACP प्रद्युम्न says, खुनी बहोत चालाक है
*******************************************************************
पुणे कोई गाव नही शहर है,
पुणे कोई गाव नही शहर है,

डॉ. सालुंके says, सर इसमे तो जहर है

*******************************************************************
अपने अहंकार को सदा नीचा करो,
अपने अहंकार को सदा नीचा करो,

अभिजीत वोह भाग रहा है, उसका पीछा करो
*******************************************************************
संगीत और गायन, अपने आप मेही है एक कला,
संगीत और गायन, अपने आप मेही है एक कला,

ACP says, ’डॉ. सालुंके, मौतके कारण का कुछ पता चला?’
*******************************************************************
‘A’ for Apple, ‘B’ for Banana,
‘A’ for Apple, ‘B’ for Banana,

दया रूक जाओ, गोली मत चलाना
*******************************************************************
गर्मीयोंके छुट्टीमे खुब खेलो,
गर्मीयोंके छुट्टीमे खुब खेलो,

दया इन सबके फिंगर प्रिंट लेलो,
*******************************************************************
५ रुपये का एक समोसा, १० रूपये के दो,
५ रुपये का एक समोसा, १० रूपये के दो,

दया दरवाजा खुल नही रहा है, तोड दो
*******************************************************************
बेहती नदी और ये खुला आकाश,
बेहती नदी और ये खुला आकाश,

Oh My God, अभिजीत, एक और लाश
*******************************************************************
रात का समय है, सीतारे छाये है
रात का समय है, सीतारे छाये है

मॅडम दरवाजा खोलो, हम CID से आये है
*******************************************************************
संस्कृत जैसी मीठी भाषा दुसरी नही कोई,
संस्कृत जैसी मीठी भाषा दुसरी नही कोई,

दया पता करो आखीर ये लाश कहा गई
*******************************************************************
शाहजहान ने बनाया ताजमहल, अकबरने लाल किला,
शाहजहान ने बनाया ताजमहल, अकबरने लाल किला,

ध्यानसे देखो अभिजीत, वहां कोई सबूत मिला?
*******************************************************************
खोदा पहाड तो निकला चूहा
खोदा पहाड तो निकला चूहा

दया ये खून हुवा तो कैसे हुआ?
*******************************************************************
आपके गाने मे ना सूर है, ना ताल है,
आपके गाने मे ना सूर है, ना ताल है,

अभिजीत इसमे कातील की जरूर कोई चाल है
*******************************************************************
बहारो फूल बरसाओ, मेरा मेहबूब आया है,
बहारो फूल बरसाओ, मेरा मेहबूब आया है,

सर किसीने इसे बडी बेरेहमीसे मार दिया है
*******************************************************************
ACP ने कहा, दया ये दरवाजा तोड दो,
ACP ने कहा, दया ये दरवाजा तोड दो,

दया बोला, सर ये रेफ़्रिजरेटर है, इसे तो छोड दो
*******************************************************************
आप हमेशा खुश रहे, ये हमारी दुवा है,
आप हमेशा खुश रहे, ये हमारी दुवा है,

ACP Says, दया खून इसी घरमे हुवा है
*******************************************************************
धीरे धीरे से मेरी जिंदगीमे आना,

धीरे धीरे से मेरी जिंदगीमे आना,

अभिजीत उस हथियार का जरा पता लगाना
*******************************************************************
करते थे प्यार, हमभी तो थोडा थोडा,
करते थे प्यार, हमभी तो थोडा थोडा,

दया says, सर खुनीने इसे भी नही छोडा
*******************************************************************
यशोमती मैयासे बोले नंदलाला,
यशोमती मैयासे बोले नंदलाला,

दया says, सर खुनीने इसे भी मार डाला
*******************************************************************
जो ना जोडे भगवानके सामने हाथ, वो भक्त नही है,
जो ना जोडे भगवानके सामने हाथ, वो भक्त नही है,

डॉ. सालुंके साफ साफ बताओ, ये मजाक का वक्त नही है
*******************************************************************
जर्मनीकडून हारल्यावर चिडला इंग्लंडचा वॅन रूनी,
जर्मनीकडून हारल्यावर चिडला इंग्लंडचा वॅन रूनी,

दया ये सारे निर्दोष है, तो फिर कौन है खुनी?
*******************************************************************
जर्मनीशी खेळताना फुस्सं ठरला मेस्सी,
जर्मनीशी खेळताना फुस्सं ठरला मेस्सी,

काही गुन्हा करूदे, ACP म्हणतो ’तुम्हे फांसी होगी, फांसी’
*******************************************************************
तनहाईमे सताती है उनकी याद जैसे,
चले आते है आखोंमे आसू वैसे,
तनहाईमे सताती है उनकी याद जैसे,
चले आते है आखोंमे आसू वैसे,

ACP: दया पता लगाओ, ये ’मुन्नी’ बदनाम हुई तो हुई कैसे?
*******************************************************************

14 प्रतिक्रीया:

ulhasbhide said...

Vikraant,

Full 2 Dhamal TP.
Collection as well as Creation.

थोडे माझ्या अकलेचे तारे ही तोडतो ....... :D

इन शेरोंमेंसे कुछ, लाल रंग में लिखे हैं
लगता है शायर के हाथ, खून से रंगे हैं

अनिकेत said...

लय झ्याक रे.. मस्त जमले आहे सगळे..
कितीही नावं ठेवली तरी सियाडी लागलेले दिसले की चॅनल बदलवत नाही हे खरे..

Vikrant Deshmukh... said...

Thanks Ulhaskaka and Aniket !!
खरे आहे. कितीही थट्टा केली तरी सीआयडी बघायचे काही सोडत नाहीत बघ !!!!!!

Pravin Kulkarni said...

fantastic buddy...

भुंगा said...

मस्तच कलेक्शन आहे भाऊ.... आणि सोबत तुझं क्रीएशनही सॉलिडच!
मी तर सी.आय.डी.चा जुना - फार फार वर्षापुर्वी-पासुनचा - चाहता आहे...
तशी ही शायरी करुन आपण कीतीही थट्टा केली तरीही - मी आजही तो कार्यक्रम तेवढ्याच आवडीनं पाहतो.

Vikrant Deshmukh... said...

धन्यवाद भुंगा.
तुझ्यासारखे कट्टर चाहते हेच या मालिकेचे वैभव. काही म्हणा, पण मजा येते पाहताना. आणि ही सगळी नावं एसीपी प्रद्युम्न, दया, अभिजीत, फ्रेडरीक्स, डॉ. साळुंके, डॉ.सारीका वगैरे अगदी घरची होऊन गेली. दहा वर्षे झाली असतील ना? पण प्रकार चालूच आहे अजून. अजूनही खुप गंमत येते बघताना :)

भुंगा said...

हो रे.. जेंव्हा बघायला सुरुवात केली तेंव्हा अशी एकही मालिका नव्हती.... आणि आता - उगाच एडिक्शन झाल्यासारखं झालंय!

डॉ.सारीका..? नाही.. तिचं नाव. दॉ. तारीका आहे... मीही अनेकदा "सारीका"च ऐकतो... पण ते "तारीका" असावं!

स्वप्ना said...

@ vikrant:sahich re........FB war CID SHAYARI mhanun ek community aahe.tyat bagh ajun navin navin wachayala milatil.....
@ aniket :barobar aahe tuze.......maze tar almost sagale episode paath zalet aksharashaha.tarihi parat bagahte........
@ bhunga : 12 warsh houn geli CID chalu houn.........mi sahawit asalyapasun bagahtiye........aata maz shikshan sampun pan 3 warsh houn geli..........:P:P:P

SHAPU said...

lai bhari... lai bhari... lai bhari... ekdum bhannat... aflatun...

महेंद्र said...

टिव्ही मी फारसा बघत नाही, शेर शायरी मस्त जमली आहे. पोस्ट अप्रतीम..

Sagar Kokne said...

मला पहिल्यांदा हा CID शायरीचा मेल आला होता तेव्हा खूप हसलो होतो,नंतर कळले की एक ब्लॉगच आहे याचा. वाचल्यानंतर CID पाहायला अजुन मजा वाटू लागली. आम्ही लहानाचे मोठे झालो पण कार्यक्रम अजुन चालू आहे.
तुझ्या शायरी देखील छान आहेत :)

मुक्तछंद said...

मस्त काम केलयस बघ तु.प्रत्येक शायरी वाचताना हसतेय मी.
एक माझ्याकडून.

गुलाब को आयी हैं कली तो फूल जरूर खिलेगा
फिरसे महाभारत बना, तो भीम दयाही बनेगा

(माझी अशी फार इच्छा आहे की परत जर महाभारत बनवल, तर त्यात भीमाच काम करण्यासाठी परफेक्ट माणूस म्हणजे आपला दया.)

amol said...

cid pj excellent jokes i like it

Anonymous said...

इन शेरोंमेंसे कुछ, लाल रंग में लिखे हैं
लगता है शायर के हाथ, खून से रंगे हैं